Osho World Online Hindi Magazine :: September 2012
www.oshoworld.com
 
"जब कोई अपने को बदलता है और उसका दीया जल जाता है, तो आस-पास के बुझे दीये अपने आप जलने की चेष्टा में संलग्न हो जाते हैं।"-ओशो
संपादकीय
ओशो का सत्य और साहित्य

अंग्रेजी समाचार-पत्र ट्रिब्यून के वरिष्ठ पत्रकार डॉ. कुलदीप कुमार धीमान द्वारा लिखित एक पुस्तक प्रकाशित हुई है जिसका शीर्षक है--परम विद्रोही: ओशो के क्रांतिकारी विचारों का विश्लेषण। इसके शीर्षक के साथ मुख्यपृष्ठ पर ओशो का एक वाक्य भी अंकित है: "ऐसा नहीं है कि मैं खतरनाक हूं--सत्य ही खतरनाक है...

ओशो-साहित्य

जीवन संगीत

इस पुस्तक में ओशो के ध्यान साधना पर दिये गये प्रवचनों का अद्वितीय संगम है। जिसमें ओशो कहते हैं...

Buy Now

ढाई आखर प्रेम का

प्रेम नाम का पुष्प जिस हृदय में खिलता है उसकी सुगंध हर जगह मौजूद होती है। उसकी सुवास प्रत्येक पल आनंद...

Buy Now

आर्ट ऑफ लिविंग

सजगता और ध्यानपूर्वक जीते हुए जीने की कला को कैसे विकसित किया जा सकता है। जिंदगी के ऐसे महत्वपूर्ण पहलुओं...

Buy Now

फाइंडिग योर ओन वे

सद्गुरु ओशो के अंग्रेजी भाषा के प्रवचनों की इस पुस्तक में बुद्ध की देशनाओं पर बोलने वाले ओशो के 42 प्रवचनों...

Buy Now

दि रिबेलियस स्प्रिट

इस पुस्तक में विद्रोही के बारे में ओशो ने कहा -"विद्रोही किसी के बताये हुए मार्ग को नहीं अपनाता है, अगर वह किसी का...

Buy Now

स्वर्णिम बचपन-
एक बुद्धपुरुष का विद्रोही बचपन


ओशो के जीवन पर आधारित यह पुस्तक हिंदी तथा अंग्रेजी दोनों...

Buy Now

ध्यान विज्ञान
ध्यान में प्रवेश की 115 सहज विधियां

आज 700 से भी अधिक पुस्तकों में संकलित ओशो के...

Buy Now

गीता-दर्शन
भाग-1 से 8


ओशो ने श्रीमदभगवतगीता के अठारह अध्यायों पर अमृत-प्रवचन...

Buy Now

मिस्टिक ऑफ दि ईस्ट

पूरब के रहस्यदर्शियों पर आधारित यह नव प्रकाशित ओशो पुस्तक "मिस्टिक ऑफ दि ईस्ट" है...

Buy Now

कृष्ण स्मृति

ओशो द्वारा कृष्ण के बहु-आयामी व्यक्तित्व पर दी गई 21 वार्ताओं एवं नव-संन्यास पर दिए गए एक विशेष...

Buy Now

एक ओंकार सतनाम

गुरु नानकदेवजी के जपुजी पर ओशो द्वारा दिए गए बीस अमृत प्रवचनों का अनुपम संकलन है...

Buy Now

संभोग से समाधि की ओर

प्रस्तुत पुस्तक ओशो द्वारा दिए गए जीवन-ऊर्जा रूपांतरण के विज्ञान पर अठारह...

Buy Now

पथ के प्रदीप

इस जगत में कौन है जो शांति नहीं चाहता? लेकिन न लोगों को इसका बोध है और न वे उन बातों को चाहते हैं जिनसे...

Buy Now

दि डायमंड सोर्ड

अंग्रेजी की यह पुस्तक ओशो द्वारा मनाली एवं बंबई में प्रश्नोत्तर सहित दिए गए 14 अमृत प्रवचनों का...

Buy Now

करेज दि जॉय ऑफ लिविंग डेंज्रसली

ओशो की पुस्तक ‘करेज-दि जॉय ऑफ लिविंग डेंज्रसली’-न्यूयार्क की प्रसिद्ध प्रकाशन संस्था...

Buy Now

क्या मनुष्य एक यंत्र है?

प्रस्तुत पुस्तक जीवन के विभिन्न पहलुओं पर क्रास मैदान, मुंबई में ओशो द्वारा दिए गए चार...

Buy Now

वर्क इज़ लव मेड विज़िबल

अंग्रेजी भाषा में यह नव-प्रकाशित पुस्तक ओशो के कार्य के प्रचार-प्रसार में संलग्न कार्यकताओं...

Buy Now

भारत: समस्याएं व समाधान

यह पुस्तक एक अपूर्व निमंत्रण है-एक ऊर्जस्वी, साहसिक, प्राणवान, जागरूक भारत के...

Buy Now

ओशो दर्शन
अहंकार और निरहंकार

अहंकार की बड़ी से बड़ी भूल यह है कि जो अंत में दुख देता है, उसमें प्रारंभ में सुख देखता है। जहां-जहां प्रारंभ में सुख दिखाई पड़े वहां-वहां अंत में तुम पाओगे...
क्या है प्रेम में भेद?

प्रेम जहां पजेशन बनता है, प्रेम जहां परिग्रह बनता है, प्रेम जहां आधिपत्य लाता है, प्रेम न रहा...
नकारात्मक मन

जिस दिन तुम्हें यह भी दिखायी पड़ेगा कि फूल और कांटे साथ-साथ आते हैं, उस दिन कांटे का दुख फूल के साथ...
मनुष्य की उलझनें

जितना ही तुम शक्तिशाली होना चाहोगे उतनी ही तुम्हारी अशक्ति का तुम्हें पता चलेगा। क्योंकि जगह-जगह तुम्हारी शक्ति की...
नारी का अस्तित्व कहां है?

जब तक स्त्री अपने अस्तित्व की स्पष्ट घोषणा नहीं करती है, तब तक उसे आत्मा उपलब्ध नहीं हो सकती...
प्रेम में पाप और पुण्य क्या?

प्रेम और प्रार्थना में उतना ही फर्क है जितना अशुद्ध सोने और शुद्ध सोने में। मगर दोनों ही सोना हैं...
बाल जगत
पेंटिग का इतिहास

पेंटिंग अभ्यास है रंगों की चित्रकारी का, जिसके माध्यम से किसी सतह या पेपर पर चित्र तैयार किया जाता है। वैसे तो ज्यादातर इसे ब्रश के माध्यम से ही बनाया जाता है। पर इसे बनाने के लिए एयर ब्रश स्पंज चाकू आदि का भी प्रयोग कर सकते हैं। पेंटिंग एक ऐसी कला है जो कि कार्य और उसकी प्रक्रिया दोनों का वर्णन करती हैं...
विशेष
श्रेष्ठ आत्माएं कब जन्म लेती है?

अक्सर ऐसा होता है कि एक श्रृंखला होती है अच्छे की भी और बुरे की भी...
गतिविधियां
हास्य-दिवस - 1 जनवरी, 2013

विगत वर्षों की तरह इस वर्ष भी ओशो वर्ल्ड फाउंडेशन की ओर से वर्ष का प्रथम दिन हास्य-दिवस के रूप में मनाया गया। हँसी के ठहाकों का यह उत्सव कुछ अलग ही तरीके से मनाया गया...
ध्यान विधि
समग्रता को देखना

शिव ने कहाः एक पात्र को देखो-बिना उसकी दीवारों को, या उसकी धातु के प्रकार को देखे। और कुछ ही क्षणों में...
ओशो जीवन रहस्य
मूर्ति पूजा का विज्ञान

मूर्ति-पूजा शब्द सेल्फ कंट्राडिकटरी है। इसीलिए जो पूजा करता है वह हैरान होता है कि मूर्ति कहां? और जिसने कभी पूजा नहीं की वह कहता है कि इस पत्थर को रख कर क्या होगा? इस मूर्ति को रख कर क्या होगा...
भारत एक सनातन यात्रा
जीवन और धर्म

जिंदगी में हर चीज का अनुपात है। और अगर अमृत भी ज्यादा पी जाएं तो मारने वाला हो जाता है और जहर...
एक सवाल?

बुद्धपुरुषों का बुद्धत्व के बाद दुबारा जन्म क्यों नहीं होता है?

बुद्धत्व को पाया व्यक्ति परम सागर में डूब गया। जिसकी तुम तलाश करते थे, जिस आनंद की, वह उसे मिल गया...

स्वास्थ्य
दवा और विश्वास

अगर होमियोपैथी पर तुम्हें भरोसा है तो एलोपैथी तुम्हें ठीक न कर पाएगी। अगर एलोपैथी पर तुम्हें भरोसा है...
युवा-ज़ोन
क्या है विवाह?

मेरे एक वक्तव्य में मैंने कहा है कि शादी जैसी आज है, विवाह जैसा आज है, वह इतना इतना विकृत है...
ओशो कथा-सागर
मुझे थोड़ी शांति दें...

कथा है कि चीन के सम्राट ने बोधिधर्म से पूछाः ‘मेरा चित्त अशांत है, बेचैन है। मेरे भीतर निरंतर अशांति मची रहती है। मुझे थोड़ी शांति दें या मुझे कोई गुप्त मंत्र बताएं कि कैसे मैं आंतरिक मौन को उपलब्ध होऊं।" बोधिधर्म ने सम्राट से कहा...
अहोभाव
हास्य ध्यान

"मेरा अनुभव ऐसा है कि आनंद मिले, तब तो आनंद मिलता ही है, जब हम उस आनंद को बांटें तो वह करोड़ गुना हो जाता है। तो मैं अपने आनंद को करोड़ गुना कर रहा हूं। जितने ज्यादा लोगों को वह मिल सकेगा, उतना ज्यादा मुझे मिल जाएगा।"   -ओशो
टैरो
फरवरी 2013
- मा दिव्यम नदीशा


अस्तित्व एक उत्सव है। जैसे-जैसे तुम्हारा बोध बढ़ेगा वैसे-वैसे तुम्हें उत्सव दिखाई पड़ेगा। अस्तित्व दरिद्र नहीं है, बड़ा समृद्ध है। उसकी समृद्धि का कोई अंत नहीं है। फूल चूकते नहीं हैं, कितने-कितने अरबों वर्ष से रोशनी बांटते हैं...
ओशोधाम-आगामी ध्यान शिविर
मिस्टिक रोज ग्रुप

25 फरवरी से 17 मार्च, 2013
संचालन - स्वामी रवीन्द्र भारती
स्थान - ओशोधाम, नई दिल्ली 
फोन - 011-25319026, 25319027,
मोबाइल - 09717490340
  समाचार सार
 
  ज्योति से जले ज्योति
राष्ट्रीय सहारा, नई दिल्ली, 5 जनवरी, 2013
आनंद को उपलब्ध व्यक्ति अपना गीत गाता है, अपनी धुन में मस्त होता है...
अमरत्व का बोध कराता है ध्यान
डेली हिन्दी मिलाप, हैदराबाद, 2 जनवरी, 2013
आदमी की उम्र बढ़ाने से मृत्यु का भय कम नहीं होगा...
पुराने अंक: 2011 - दिसम्बर | 2012 - जनवरी | फरवरी | मार्च | अप्रैल | मई | जून | जुलाई | अगस्त | सितम्बर | अक्टूबर | नवम्बर | दिसम्बर
www.oshoworld.com